अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुश्किल बढ़ाएगा पूर्व एनएसए बोल्टन का रहस्योद्घाटन

वाशिंगटन, न्यूयॉर्क टाइम्स से। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अगस्त, 2019 में तत्कालीन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) जॉन बोल्टन से कहा था कि वह चाहते हैं कि यूक्रेन को दी जाने वाली 39.1 करोड़ डॉलर (करीब 2800 करोड़ रुपये) की सुरक्षा सहायता तब तक रोक दी जाए, जब तक कि उसके अधिकारी जो बिडेन समेत डेमोक्रेट्स नेताओं की जांच में मदद नहीं करते। बोल्टन ने यह सनसनीखेज दावा अपनी एक किताब में किया है। यह किताब अभी प्रकाशित नहीं हुई है, लेकिन उनके इस रहस्योद्घाटन से महाभियोग का सामना कर रहे ट्रंप की मुसीबत बढ़ सकती है। ट्रंप ने बोल्टन को पिछले साल सितंबर में एनएसए पद से बर्खास्त कर दिया था।

ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने पिछले साल 25 जुलाई को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की से फोन पर बात के दौरान राष्ट्रपति चुनाव में अपने संभावित डेमोक्रेट प्रतिद्वंद्वी बिडेन के खिलाफ जांच शुरू करने का दबाव बनाया था। इसी मामले को लेकर इस समय अमेरिकी संसद के ऊपरी सदन सीनेट में ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की सुनवाई चल रही है।अमेरिका के इतिहास में ट्रंप ऐसे तीसरे राष्ट्रपति बन गए हैं, जिन पर महाभियोग चलाया जा रहा है। बोल्टन के इस दावे से ट्रंप की कई दलीलें कमजोर पड़ सकती हैं। महाभियोग सुनवाई में उनकी ओर से यह दलील दी गई है कि सुरक्षा सहायता रोकने और जांच के लिए मदद का आग्रह करने में कोई संबंध नहीं है। इस अप्रकाशित किताब की प्रतियां व्हाइट हाउस और ट्रंप के सहयोगियों के पास भी भेजी गई थीं। इस पर व्हाइट हाउस की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

बोल्टन ने जताई है गवाही की इच्छा

71 वर्षीय बोल्टन ने इस माह के प्रारंभ में यह इच्छा जताई थी कि वह सीनेट में होने वाली महाभियोग की सुनवाई में गवाही देना चाहते हैं। उनके इस बयान के बाद से ही विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद नए गवाहों को शामिल करने की मांग कर रहे हैं। ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी के ज्यादातर सांसद चुप्पी साधे हुए हैं। सीनेट में ट्रंप की पार्टी बहुमत में है। जबकि ट्रंप ने पिछले हफ्ते पत्रकारों से कहा था कि वह नहीं चाहते कि बोल्टन की गवाही हो। अगर वह सार्वजनिक तौर पर कुछ बोलते हैं तो वह राष्ट्रीय सुरक्षा को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

ट्रंप ने बोल्टन के दावे को किया खारिज

समाचार एजेंसी एपी के अनुसार, ट्रंप ने बोल्टन के दावे को खारिज किया है। उन्होंने सोमवार को ट्वीट के जरिये कहा, ‘मैंने जॉन बोल्टन से यह कभी नहीं कहा था कि यूक्रेन की सहायता को जांच से जोड़ा जाए। अगर वह ऐसा कह रहे हैं तो सिर्फ किताब बेचने के लिए बोल रहे हैं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *